-A A A+

उदयपुर के बारे में

title-arrow

राजस्थान की शान

राजस्थान की शान

उदयपुर – झीलों का शहर और "पूर्व की आवाज" – पूर्व राजशाही मेवाड़ राज्य की राजधानी है। अपनी गतिमान संस्कृति, गहन इतिहास, राजशाही महलों और अतुल्य दृश्यनीय सौंदर्य के लिए विश्व भर में ज्ञात उदयपुर को विश्व में सर्वोत्तम शहर के रूप में पर्यटन पत्रिकाओं में नियमित रूप से चुना जाता है।

शब्द सततता और संरक्षण का प्रयोग करने के कई दशकों पहले प्रकृति के साथ सह-संबंध इस क्षेत्र में जीवन का मुख्य भाग रहा है। बीहड़ क्षेत्र और अनुपम प्राकृतिक सौंदर्य का युगों से पोषण किया जाता रहा है। राज-तंत्र के परिचारक का मॉडल जिसमें सेवा को सर्वोत्तम मूल्य दिया जाता है, 700 से अधिक वर्षों तक लागू रहा है। वन्यजीवन अभयारण्यों प्राकृतिक संरक्षणों और अभूतपूर्व वास्तुकला ये सब अनन्य स्थापना का भाग है जो भारत की महक को दर्शाता है।

उदयपुर कई मझौले आकार की कंपनियों, उद्यमी उपक्रमों और उत्‍साही एनजीओ का द्वार है जो राजस्‍थान को आर्थिक और सामाजिक परिवर्तन का हब बनाता है। आईआईएमयू उनमें से कई के साथ छात्र इंटर्नशिप, शोध परियोजनाओं, मामला अध्‍ययन और मेहमान लेकचरों के लिए घनिष्‍ट संबंध स्‍थापित किए हैं।

उदयपुर राज्‍य की राजधानी जयपुर से लगभग 400 किलोमीटर दक्षिण पश्‍चिम की ओर तथा अहमदाबाद के 250 किलोमीटर पूर्वोत्‍तर की ओर स्‍थित है। यहां दिल्‍ली और मुम्‍बई से कई सीधी फलाईट हैं और बंगलौर, चेन्‍नै और कोलकाता से कई सम्‍पर्क फलाईट हैं। हवाई अड्डा शहर के केन्‍द्र से सुविधाजनक 20 किलो मीटर की दूरी पर है जहां से भरोसेमंद प्रीपेड टैक्‍सी सेवा उपलब्‍ध है। यह शहर दिल्‍ली और मुम्‍बई से सुनहरे चतुर्भुज (राष्‍ट्रीय राजमार्ग 8) पर स्‍थित है जहां से अहमदाबाद केवल 4 घंटे की ड्राइव पर है। राणाप्रताप रेलवे स्‍टेशन परिसर से केवल 2.5 किलोमीटर की दूरी पर है और इसमें भारत के सभी प्रमुख शहरों से सीधे ट्रेन उपलब्‍ध हैं। शहर के भीतर परिवहन का मुख्‍य साधन ऑटो रिक्‍शा हैं जो एमएलएसयू द्वारा से आसानी से उपलब्‍ध हैं। किराए पर कारें भी आसानी से उपलब्‍ध हैं।