-A A A+

हमारा इतिहास

title-arrow

महत्वपूर्ण उपलब्धियां

2009
केंद्रीय सरकार द्वारा आईआईएम उदयपुर के निर्माण को मंजूरी
2010
पहले बोर्ड ऑफ़ गवर्नर्स की नियुक्ति
2011
आईआईएमयू का एमएलएसयू कैंपस के बाहर संचालन शुरु
57 पीजीपी (दो वर्षीय एमबीए) छात्रों का आगमन
17 स्थायी फैकल्टी सदस्य
2012
महिला उद्यमियों के लिए पहला प्रबंधन विकास कार्यक्रम
पांच पीजीपी छात्रों द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्थानों पर समर इंटर्नशिप को पूरा करना
110 पीजीपी छात्रों का आगमन
नेतृत्व शिखर सम्मेलन का पहला संस्करण
अनविंड का पहला संस्करण - पीजीपी वर्गों के बीच सांस्कृतिक प्रतियोगिता का आयोजन
पीजीपी इलेक्टिव के रुप में आईबीपी (इंटरनेशनल बिजनेस इन प्रैक्टिस) का शुभारंभ
2013
पीजीपीएक्स (एक वर्षीय एमबीए - जीएससीएम) छात्रों का पहला बैच
पहला दीक्षांत समारोह - पहला पीजीपी डिप्लोमा प्रदान किया गया
छात्र संविधान को स्वीकृति एवं छात्र मामलों के लिए परिषद का चुनाव किया गया
ड्यूक यूनिवर्सिटी के साथ विकास में भविष्य के नेताओं के लिए पहला ग्रीष्मकालीन कार्यक्रम का आयोजन
छात्र आचार संहिता की फैकल्टी के समक्ष प्रस्तुति
2014
दूसरा दीक्षांत समारोह - पीजीपीएक्स छात्रों के स्नातकों का पहला बैच
पहले पीजीपी स्नातकों द्वारा प्लेसमेंट से बाहर उद्यमिता का चयन
पहला समावेशी भारत मंच - एनजीओ, सीएसआर, एचबीएस पूर्व छात्रों एवं छात्रों के लिए कार्यक्रम
मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) द्वारा नए परिसर के निर्माण को मंजूरी
2015
ऑडेसिटी का पहला संस्करण, आईआईएमयू का सांस्कृतिक उत्सव
राजस्थान की मुख्यमंत्री एवं मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार द्वारा नए परिसर में नींव की स्थापना
27 स्थायी फैकल्टी सदस्य
144 पीजीपी छात्रों का आगमन
सोलारिस, आईआईएमयू के दो दिवसीय प्रबंधन इवेंट के चार प्रमुख कॉन्क्लेव – नेतृत्‍व समिट; अर्थ सम्‍वाद (वित्‍तीय समिट); सम्वाह (मार्केटिंग समिट); टेक्नोवेट (आईटी एवं उद्यमिता समिट) के साथ पहला संस्‍करण
2016
एनआईआरएफ द्वारा आईआईएमयू का भारतीय प्रबंधन स्कूलों में 5वां स्थान
यूटी डल्लास पद्धति के अनुसार प्रमुख वैश्विक पत्रिकाओं में प्रकाशित शोध के आधार पर आईआईएमयू शीर्ष 5 भारतीय बिजनेस स्कूलों में से एक
प्रबंधन में फैलो कार्यक्रम का शुभारंभ (डॉक्टरल कार्यक्रम)
नए परिसर का उद्‍घाटन
2017
231 पीजीपी छात्रों का आगमन
नए परिसर में पहला पूर्व छात्र पुनर्मिलन
नए परिसर में आईआईएमयू का पहला सांस्कृतिक उत्सव ‘‘ऑडेसिटी’’ का आयोजन
2018
आईआईएमयू एएसीएसबी मान्यता प्राप्त करने वाला सबसे युवा संस्थान
257 पीजीपी छात्रों का आगमन
प्रबंधन में फैलो प्रोग्राम में दो नए क्षेत्रों का संचालन
भारत के शहरों में चार अध्याय सत्रों (पूर्व छात्र मिलन) का आयोजन
एनआईआरएफ द्वारा आईआईएमयू को भारतीय प्रबंधन स्कूलों में 13वां स्थान एवं नई पीढ़ी के आईआईएम में पहला स्थान
2019
आईआईएमयू क्यूएस 2020 मास्टर्स इन मैनेजमेंट रैकिंग में सूचीबद्ध हुआ
पीजीपी प्रोग्राम का नाम दो वर्षीय एमबीए में परिवर्तित किया गया
आईआईएमयू ने दो वर्षीय एमबीए प्रोग्राम के लिए एमबीए की डिग्री देना शुरु किया
पीजीपीएक्स कार्यक्रम का नाम बदलकर एक वर्षीय एमबीए - ग्लोबल सप्लाई चेन मैनेजमेंट रखा गया
आईआईएमयू द्वारा नया सेंटर फाॅर डिजिटल एंटरप्राइज का निर्माण
आईआईएमयू द्वारा डिजिटल एंटरप्राइज मैनेजमेंट में एक वर्षीय एमबीए लांच किया गया
आईआईएमयू एफटी मास्टर इन मैनेजमेंट रैंकिंग 2019 में सूचीबद्ध हुआ