-A A A+

हमारा इतिहास

title-arrow

महत्वपूर्ण उपलब्धियां

2009
सरकार द्वारा आईआईएमयू उदयपुर का सृजन अनुमोदित
2010
पहले शासी बोर्ड की नियुक्‍ति
2011
आईआईएमयू द्वारा एमएलएसयू परिसर से संचालन आरंभ
57 पीजीपी छात्र
17 – स्‍थायी संकाय
2012
पहला महिला उद्यमियों के लिए प्रबंध विकास कार्यक्रम
5 पीजीपी छात्रों ने अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍थानों पर ग्रीष्‍म इंटर्नशिप पूरी की
110 पीजीपी छात्र
नेतृत्‍व सम्‍मेलन का पहला संस्‍करण
पीजीपी वर्गों के बीच अनविंड – सांस्‍कृतिक प्रतिस्‍पर्धा का पहला संस्‍क्‍रण
पीजीपी इलेक्‍टिव के रूप में आईबीपी (प्रैक्‍टिस में अंतर्राष्‍ट्रीय बिजनेस) का शुभारंभ
2013
पीजीपीएक्‍स छात्रों का पहला बैच
पहला दीक्षांत समारोह – पहले पीजीपी डिप्‍लोमा प्रदत्‍त
छात्र संविधान अपनाया गया और छात्र मामलों की पहली परिषद चुनी गयी
विकास में भविष्‍य के नेताओं के लिए डयूक विश्‍वविद्यालय के साथ पहला ग्रीष्‍म कार्यक्रम
छात्र आचार संहिता संकाय को प्रस्‍तुत
2014
दूसरा दीक्षांत समारोह – पीजीपीएक्‍स छात्रों का पहला बैच स्‍नातक
पहले पीजीपी स्‍नातक द्वारा उद्यमी उपक्रम चुनने के लिए प्‍लेसमेंट छोड़ी जाना
पहला इन्‍कलेसिव इंडिया फोरम – एनजीओ, सीएसआर, एचवीएस एल्‍युमिनी और छात्रों के लिए इवेंट
नए परिसर का निर्माण मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा अनुमोदित
2015
ओडासिटी, आईआईएमयू के सांस्‍कृतिक उत्‍सव का पहला संस्‍करण
नए परिसर के लिए राजस्‍थान के मुख्‍य मंत्री और मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार द्वारा आधारशिला रखा जाना
27 – स्‍थायी संकाय
144 पीजीपी छात्र
सोलारिस, आईआईएमयू के दो दिवसीय प्रबंधन इवेंट का चार प्रमुख कन्‍कलेव – नेतृत्‍व समिट; अर्थ सम्‍वाद (वित्‍तीय समिट); संवाह (विपणन समिट); टेकनोवेट (आईटी एवं उद्यमिता समिट) के साथ पहला संस्‍करण
2016
आईआईएमयू को एनआईआरएफ द्वारा भारतीय प्रबंध स्‍कूलों में 5वां स्‍थान दिया गया
आईआईएमयू को अग्रणी वैश्‍विक जर्नल, एफपीएम डॉक्‍टोरल कार्यक्रम में प्रकाशित शोध के आधार पर 5वें सर्वोच्‍च भारतीय बिजनेस स्‍कूल का स्‍थान दिया गया
एफपीएम डॉक्‍टोरल कार्यक्रम का शुभारंभ
नए परिसर का उद्घाटन