-A A A+

आईआईएम-उदयपुर-में-स्वागत

title-arrow

शैक्षिक उत्कृष्टता, व्यक्तित्व परिवर्तन

आईआईएम-उदयपुर-में-स्वागत |  हमारे बारे में | Home

भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम) की स्थापना भारत सरकार द्वारा उपलब्ध सर्वोत्तम छात्र प्रतिभा की पहचान करने और भारतीय अर्थव्यवस्था का नेतृत्व करने हेतु प्रबुद्ध प्रबंधकों के पूल का सृजन करने के उद्देश्य से किया गया था। पचास से अधिक वर्षों में, आईआईएम को प्रमुख प्रबंध संस्था के रूप में जाना जाता है जो कि शिक्षण, शोध तथा उद्योग जगत के साथ सम्पर्क के लिए विश्व में सर्वोत्तम संस्थाओं के तुलनीय है।

वर्ष 2009 में, भारत सरकार ने आईआईएम उदयपुर के सृजन की अनुमति प्रदान की। संस्थान अधिकारिक रूप से वर्ष 2011 में आरंभ हुआ; जो अब मोहनलाल सुखाडिया विश्वविद्यालय के अस्थायी परिसर में स्थित है। राजस्थान सरकार द्वारा उदयपुर के बलिचा क्षेत्र में आबंटित की गई 300 एकड़ भूमि पर आईआईएमयू नए परिसर का निर्माण कर रहा है।

आईआईएमयू, भारतीय प्रबंध संस्थानों के नेटवर्क की गौरवपूर्ण उपलब्धियों और परंपराओं का निर्माण करते हुए स्टार्ट-अप की उर्जा के साथ ओतप्रोत है। इसका उद्देश्य शिक्षण तथा शोध दोनों में उत्कृष्टता के संयोजन से प्रबंधन शिक्षा के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित करना है। यह संस्थान क्षेत्र में वास्तविक अंतर लाने, गैर-सरकारी संगठनों तथा सरकार के बीच मजबूत संबंध स्थापित करने और सजीव परियोजनाओं, इंटर्नशिप, अतिथि लेकचर, संकाय शोध एवं पूरे शैक्षिक वर्ष में कई इवेंटों में घनिष्टता के कार्य करने का प्रयास करता है।

मेवाड़ की पूर्व रियासत की राजधानी उदयपुर वेनिस और प्राग के असामयिक गंतव्य के समान विरासत, सौंदर्य और ऐश्वर्य की भावना की संस्कृति का नमूना प्रस्तुत करता है। संस्कृति और इतिहास का यह मिश्रण आईआईएम उदयपुर के लिए सही पृष्ठभूमि है।

यदि ऐसा कोई स्थान है जो स्वयं को प्रबंधन शिक्षा के परिवेश में स्थापित करता है तो आईआईएमयू इसे उदयपुर और राजस्थान में प्रस्तुत करने की आकांक्षा रखता है। इस विरासत, संस्कृति और स्थान के साथ आईआईएम उदयपुर में इतिहास भविष्य के साथ वास्तव में मिलता है।

आईआईएम यू के मुख्य बुनियादी तत्व


निम्नलिखित विशेषताएं हमारे सभी कार्यक्रमों और गतिविधियों की नींव हैं।

उद्यमशीलता

आईआईएमयू छात्रों को वह स्वतंत्रता और संस्थागत सहायता प्रदान करता है जिसकी उन्हें अपनी उद्यमी महत्वकांक्षाओं की खोज में आवश्यकता होती हैं। यह हमारे कार्यक्रमों: पहले दिन उद्यमशीलता के प्रति गहन उन्मुखीकरण; इलेक्टिव पाठ्यक्रमों की प्रेरक श्रेणी; कार्यक्रम के दौरान और उसके बाद गहन निगरानी; उद्यम चुनने वाले छात्रों के लिए लोचशील प्लेसमेंट विकल्प; प्रारंभिक मूलधन और इक्विटी पूंजी प्राप्त करने में सहायता के सभी पहलुओं में प्रदर्शित होता है़।

यदि उद्यमी बनना आपको रोमांचित करता है तो भारत में इससे उत्तम स्थान नहीं है।

अंतर्राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य

आईआईएम उदयपुर में सीखने की कोई सीमा नहीं है। वैश्विक परप्रिेक्ष्य समाविष्ट करने के हमारे कदम हमारी सभी गतिविधियों का समेकित भाग हैं: पीजीपी में प्रैक्टिस इलेक्टिव में अंतर्राष्ट्रीय बिजनेस छात्रों को अंतर्राष्ट्रीय स्थानों पर लघु अवधि परामर्श कार्यों पर कार्य करने में समर्थ बनाता है; पीजीपीएक्स के छात्र प्रौन्नत वैश्विक एससीएम में उत्कृष्टता प्राप्त करते हुए पुरूडुए विश्वविद्यालय में समूचे पांच माह का सेमेस्टर व्यतीत करते हैं; डयूक विश्वविद्यालय प्रत्येक वर्ष विकास में भविष्य के नेता के लिए ग्रीष्म स्कूल हेतु पब्लिक पॉलिसी के छात्रों के समूह को भेजता है; आईआईएम उदयपुर विश्व में प्रबुद्ध बी-स्कूलों के कंसोर्टियम ग्लोबल बिजनेस प्रोजेक्ट में भारत का प्रतिनिधित्व करता है जो छात्रों के अंतर्राष्ट्रीय समूह को उभरती हुई अर्थव्यवस्था में सजीव बिजनेस परियोजनाओं पर कार्य में समर्थ बनाता है। अन्य अवसरों में अंतर्राष्ट्रीय आदान-प्रदान कार्यक्रम तथा विदेश में ग्रीष्म इंटर्नशिप शामिल है।

दर्शन के रूप में निमज्जन

विश्वभर में एमबीए कार्यक्रम यह महसूस कर रहे हैं कि सीखने का सर्वोत्तम तरीका काम करना है। आईआईएमयू में यह अपरिहार्य विचार निमज्जन-दूसरे शब्दों में छात्रों को वास्तविक वातावरण में उतरने तथा स्वयं के लिए अधिगम खोजने में परिवर्तित होता है;

  • ग्रामीण निमज्जन, जहां छात्र गांव में एक सप्ताह व्यतीत करते हुए ग्रामीण भारत की समझ प्राप्त करते हैं जहां वे निचले स्तर पर वास्तविकता तथा उनके समक्ष आने वाली चुनौतियों को समझने के लिए एनजीओ के साथ घनिष्टता से कार्य करते हैं।
  • भारत तथा विदेशों में जीवंत परियोजनाओं और इंटर्नशिप के माध्यम से कारपोरेट निमज्जन
  • छात्र आदान-प्रदान, इंटर्नशिप तथा प्रैक्टिस एवं ग्लोबल बिजनेस परियोजना में अंतर्राष्ट्रीय जैसे पाठ्यक्रमों के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय निमज्जन
उद्योग इंटरफेस

हमारी वरीयता यह सुनिश्चित करना है कि सभी संचालन क्षेत्रों में थ्योरी प्रैक्टिस की अनुपूरक कैसे होती है। हम छात्रों के वर्ष भर संघर्ष करने और उद्योग जगत के अग्रणियों के साथ ज्ञान साझा करने के कई अवसर प्रदान करते हैं। ये सम्पर्क इंटर्नशिप, जीवंत परियोजनाओं और मामले पर विचार-विमर्शों तक ही सीमित नहीं होते हैं। छात्र ऐसे सम्मेलनों और पैनल विचार-विमर्शों का आयोजन संचालन करते हैं जो भारत तथा विदेशों के विशेषज्ञों, विचारको और भागीदारों को इकटठे लाता है। छात्र भी वचनबद्व और उत्साही उद्योग व्यावसायिकों द्वारा गहन परामर्श से लाभान्वित होते हैं।