-A A A+

नियम एवं शर्तें

title-arrow

नियम एवं शर्तें

कॉपीराइट एवं ट्रेडमार्क
इस साइट पर सभी सामग्री (सभी विषय वस्तु, साइट की रचना, पाठ, ग्राफिक्स और इंटरफ़ेस, जब तक कि संकेत नहीं दिया गया हो) भारतीय प्रबंधन संस्थान उदयपुर का कॉपीराइट है, सभी अधिकार सुरक्षित हैं । विशिष्ट पूर्व अनुमति की आवश्यकता के बिना सामग्री को डाउनलोड किया जा सकता है। सामग्री का कोई अन्य प्रस्तावित उपयोग आईआईएम उदयपुर के अनुमोदन के अधीन है। अनुमति प्राप्त करने के लिए आवेदन नोडल अधिकारी को किया जाना चाहिए।

आईआईएमयू और आईआईएम उदयपुर से संबंधित ट्रेडमार्क, लोगो, सेवा चिह्न और मालिकाना डिजाइन तत्व भारतीय प्रबंधन संस्थान उदयपुर की संपत्ति हैं। आईआईएमयू वेबसाइट के भीतर उद्धृत कोई भी अन्य ट्रेडमार्क, लोगो, उत्पाद के नाम और कंपनियों के नाम उनके संबंधित स्वामियों की संपत्ति हैं।

हाइपरलिंक
हाइपरलिंक को किसी भी वेबसाइट से इस साइट पर निर्देशित करने से पहले पूर्व अनुमति की आवश्यकता होती है। जहां लिंक दिखाई देगा, उन पृष्ठों पर सामग्री की प्रकृति को बताते हुए, और हाइपरलिंक की सही भाषा को बताते हुए नोडल अधिकारी को एक अनुरोध भेजकर अग्रिम रूप से इसकी अनुमति प्राप्त की जानी चाहिए।

बाहरी साइटों के लिए लिंक
इस साइट में इंटरनेट पर अन्य साइटों के लिंक शामिल हैं जिनका स्वामित्व एवं संचालन तृतीय पक्षों द्वारा होता है। आईआईएमयू ऐसी अन्य वेबसाइटों की सामग्री या गोपनीयता प्रथाओं के लिए ज़िम्मेदार नहीं है।

सामान्य अस्वीकरण
इस वेबसाइट पर सामग्री की सटीकता और मुद्रा सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास किए गए हैं; हालांकि, इसे कानून के एक बयान के रूप में नहीं समझा जाना चाहिए या कोई भी कानूनी उद्देश्यों के लिए उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। किसी भी अस्पष्टता या संदेह के सन्दर्भ में, उपयोगकर्ताओं को सलाह दी जाती है कि वे उपयुक्त पेशेवर सलाह प्राप्त करने के लिए आईआईएमयू या अन्य संबंधित दलों के साथ सत्यापित करें/जांच करें।

किसी भी परिस्थिति में आईआईएमयू किसी भी व्यय, नुकसान या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा जिसमें शामिल हैं, बिना सीमा के, अप्रत्यक्ष या परिणामी हानि या क्षति, या डेटा के उपयोग, या उपयोग के नुकसान से उत्पन्न होने वाला कोई भी व्यय, हानि या नुकसान जो भी हो, जो इस वेबसाइट के उपयोग से या उपयोग के संबंध में उत्त्पन्न हुआ है।

इन नियमों और शर्तों को भारतीय कानूनों के अनुसार नियंत्रित और नियंत्रित किया जाएगा। इन नियमों और शर्तों के तहत उत्पन्न होने वाला कोई भी विवाद भारत के न्यायालयों के क्षेत्राधिकार के अधीन होगा।