-A A A+

पाठ्यचर्या डिजाइन

title-arrow

पाठ्यचर्या डिजाइन

पाठ्यचर्या डिजाइन

पीजीपीएक्‍स चार माड्यूल वाला 15 माह का कार्यक्रम है:

माड्यूल 1 – प्रबंधन फंडामेंटल – आईआईएम उदयपुर– 5 माह

प्रथम माड्यूल वैश्‍विक सप्‍लाई चेंन प्रबंधन पर ध्‍यान केंद्रित करते हुए सभी प्रमुख संचालन क्षेत्रों में प्रयोग किए जाने वाले प्रमुख उपकरणों, पहलुओं और विश्‍लेषणात्‍मक कौशल को शामिल करते हुए अनिवार्य पाठ्यक्रम है।

फाउंडेशन: ये पाठ्यक्रम ज्ञान और विश्‍लेषणात्‍मक योग्‍यता तैयार करने पर ध्‍यान केंद्रित करते हैं जो व्‍यापार अध्‍ययन के संचालन क्षेत्रों की समझ को सहायता प्रदान करते हैं।

संचालन: ये पाठ्यक्रम व्‍यापार और प्रबंधन के मूल विषयों को शामिल करते हैं और छात्रों को प्रोन्‍नत पहलुओं को समझने की स्‍थिति से सुसज्‍जित करते हैं।

समेकित: समेकित पाठ्यक्रम छात्र को इस बात के योग्‍य बनाते हैं कि संगठनों की समग्र समझ कैसे विकसित करें और आने वाली समस्‍याओं को सामना केसे करें तथा एक दूसरे से संबंधित विभिन्‍न कार्यों को कैसे देंखे।

कौशल निर्माण: मूल एवं संचालन जानकारी के अतिरिक्‍त, एक प्रबंधन व्‍यवसाय को विभिन्‍न प्रकार के कौशलों को तैयार करने तथा लागू करने और ऐसे बहु-उपकरणों को उपयोग करना आवश्‍यक होता है जो निर्णय निर्धारण और बेहतर प्रबंधन को योग्‍य बनाए। इन कौशलों को अपनाना और इन्‍हें निखारना एक जीवनपर्यंत प्रक्रिया है और कौशलों निर्माण के लिए तैयार किए गए पाठ्यक्रम छात्रों को यह यात्रा आरंभ करने योग्‍य बनाते हैं।

विषय-विशेषज्ञता: पीजीपीएक्‍स पाठ्यचर्या छात्रों को वैश्‍विक स्‍तर पर सप्‍लाई चैन प्रबंधन में विशेषज्ञ बनने का पात्र बनाती हैं। पाठ्यक्रमों का यह सेट उनके लिए प्रोन्‍नत एससीएम पहलुओं को सीखने के लिए नींव प्रदान करता है।

माड्यूल 2 –प्रयोगात्‍मक शिक्षण– उद्योग इंटर्नशिप– 2 माह

दूसरे माड्युल में कंपनी के स्‍थान में 8 सप्‍ताह का कारपोरेट इंटर्नशिप शमिल होता है जहां छात्रों को संगठनों के समक्ष आने वाले वास्‍तविक मुद्दों का सामना करने का अवसर प्राप्त होता है।

  • इंटर्न ग्राहकों के साथ उद्देश्‍यपरक समस्‍या पर कार्य करते हैं।
  • वे माप योग्‍य और कार्य योग्‍य उद्देश्‍यों को परिभाषित करते हैं।
  • वे प्रमुख मुद्दों की पहचान करते हैं और सटीक सिफारिशें करते हैं।

इंटर्नशिप इस प्रकार तैयार की गई है कि छात्र फर्म में सप्‍लाई चैन प्रणाली की समझ प्राप्‍त करना आरंभ करें और तत्‍पश्‍चात् जटिल समस्‍याओं पर कार्य कर सकें। अधिगम का अनुभव कड़ा होता है और इसमें परियेाजना डिलिवरी सुनिश्‍चित करने के लिए संकाय के दल द्वारा सहायता प्रदान की जाती है।

इंटर्नशिप का अवस्‍थापनात्‍मक रूप से परडयू के संकाय द्वारा मूल्‍यांकन किया जाता है जो उन साक्ष्‍यों की जांच करता है जिनमें छात्र ने शिक्षण कक्ष में सीखे गई जानकारी को लागू करने की प्रक्रिया आरंभ कर दी है और उन समस्‍याओं के प्रति उठाने आरंभ किए हैं जिनका वे एससीएम विषय में गहन विषय की जानकारी प्राप्‍त करने के बारे में सामना करते हैं।

माड्युल 3 – वैश्‍विक सप्‍लाई चैन दृष्‍टिकोण– परडयू – 5 माह

पीजीपीएक्‍स के छात्र परडयू विश्‍वविद्यालय में अंतर्राष्‍ट्रीय अवसर का एक पूरा सेमेस्‍टर प्राप्‍त करते हैं जहां वे एससीएम, लाजिसटिक प्रबंधन और नीतिगत सोर्सिंग में अनिवार्य पाठ्यक्रम का अध्‍ययन कर सकते हैं। वे दो विभिन्‍न श्रेणियों से इलेक्‍टिव विषय भी चुन सकते हैं:

  • बिजनेस इलेक्‍टिव– जीएससीएम संगत: बिजनेस इलेक्‍टिव का एक सेट जो वैश्‍विक सप्‍लाई चैन प्रबंधन में कार्यक्रमविशेषज्ञता से संगत है।
  • जीएससीएम इलेक्‍टिव: इलेक्‍टिव का एक सेट जो जीएससीएम में विशिष्‍ट विशेषज्ञता प्रदान करता है।
माड्युल 4 – प्रोन्‍नत व्‍यापार एवं एससीएम समझ-आईआईएम उदयपुर- 3 माह

छात्र आईआईएम उदयपुर में अंतिम माड्युल के लिए वापस लौटते हैं। अनिवार्य कैप्‍सटोन साइमुलेशन के अतिरिक्‍त वे कई इलेक्‍टिव विषय चुनते हैं जो जीएससीएम में विशेषज्ञता को सुदृढ बनाता है। इलेक्‍टिव के भाग के रूप में छात्र आईआईएमयू के संकाय की निगरानी में स्‍वतंत्र अध्‍ययन पाठ्यक्रम (सीआईएस) कर सकते हैं। छात्र उन उपकरणों, तकनीकों, कौशल और पहलुओं को लागू कर सकते हैं जिन्‍हें उन्‍होंने फील्‍ड अध्‍ययन, कम्‍प्‍यूटर आधारित आधारित विश्‍लेषण और पुस्‍तकलाय शोध के माध्‍यम से वास्‍तविक समस्‍याओं के लिए सीखा है। सीआईएस पीजीपीएक्‍स के छात्रों के लिए जीएससीएम में स्‍वतंत्र रूप से और गहन तरीके से नवीनतम विषयों और प्रवृत्‍तियों का पता लगाने का अवसर है।