-A A A+

प्रशंसा पत्र

title-arrow

प्रशंसा पत्र

प्रशंसा पत्र

मैंने यह सीखा है कि लेने वाला और देने वाला दोनों कैसे बना जाए। इस देश में नया होने के नाते और भाषा न जानने का अर्थ कई तरीकों से यह है कि मैं निर्भर था। मैंने हमारे शैक्षिक और फील्‍ड परामर्शदाताओं के ज्ञान पर भरोसा करना सीखा और मेरे टीममेट और की "सांस्‍कृति कोचिंग पर" भरोसा किया। मुझे ग्रामवासियों की उदारता ने आश्‍चर्यचकित किया। अपने न्‍यूनतम संसाधनों के साथ भी उन्‍होंने मुझे नि:स्‍वार्थ रूप से वह सब दिया जो वे देना चाहते थे यह विन्रम और हृदय स्‍पर्शी दोनों रहा। यद्यपि मैं वहां सीखने और सेवा करनेके लिए गया था, मैं मेरे नए भारतीय मित्रों की प्रचुर मात्रा में महानता का प्राप्‍तकर्ता बन गया।

-बहारी जे. हैरिस

ग्रीष्‍म स्‍कूल ने मुझे प्रबुद्ध विकास व्‍यावसायिकों और अन्‍य उत्‍साही छात्रों के साथ कार्यकरने का अद्भुत अवसर प्रदान किया। शिक्षण कक्ष, शोध एवं कार्यक्रम के दौरान प्रदत्‍त प्रयोगों की विभिन्‍नता ने मेरे शैक्षिक और व्‍यावसायिकों अनुभवों में विस्‍तार किया है। मैंने न केवल ग्रामीण भारतमें फील्‍ड अनुभव प्राप्‍त किया बल्‍कि सुसम्‍मानित एनजीओ के साथ विशेष सहयोग के रूप में भी लाभान्‍वित हुआ जिसने मुझ अंतर्राष्‍ट्रीय विकास में कार्य करने के दौरान अनुकूलन एवं सांस्‍कृतिक संवेदनशीलता के महत्‍व को सिखाया।

-अलेक्‍जेंडर शेनॉन

शिक्षण कक्ष अधिगम और फील्‍ड कार्य के शानदार संतुलन के साथ ग्रीष्‍म स्‍कूल आपकों एक परिवर्तनकारी एजेंटकेरूप में तैयार करता है। इसने मुझे एक सशक्‍त शिक्षाशास्‍त्र शोध और गतिमान बौद्धिक वातावरण के माध्‍यम से 'विकास' के विभिन्‍न पहलुओं को सीखने का अवसर प्रदान किया। ऐसे वातावरण में अन्‍य लोगों की विकास के दृष्‍टिकोण, उनकी व्‍यावसायिक जीवन की समझ की गहन जानकारी प्राप्‍त करने में सहायता प्रदान की और मुझे स्‍वयं की प्रशंसा करने में भी सहायता की।

-उबैद मुस्‍ताक